अनुसंधान केंद्र मखाना, दरभंगा

भा.कृ.अनु.प. का पूर्वी अनुसंधान परिसर, मखाना अनुसंधान केंद्र, दरभंगा

इस अनुसंधान केंद्र को निम्‍नलिखित उद्देश्‍यों के साथ प्रारंभ किया गया

  • ऐसी उपयुक्‍त कृषि प्रौद्योगिकियों को विकसित करना जिससे उच्‍च उपज, अधिक और बेहतर रोजगार, कृषि सामग्री का मूल्‍यवर्धन, सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार तथा कुशल विपणन व आयात के माध्‍यम से गरीब मखाना उत्‍पादकों (गरीब मछुआरा समुदाय) के आर्थिक स्‍तर में सुधार लाना।
  • प्रणाली में जल की उत्‍पादकता में सुधार लाकर नम भूमि वाले क्षेत्रों के समग्र विकास हेतु मिशन मोड में मूल और व्यावहारिक अनुसंधान का संचालन। मखाना की पॉपिंग में संलग्‍न गरीब किसानों विशेषकर महिला समूहों के कठिन श्रम में कमी लाने पर विशेष जोर देना। 
  • उत्‍पादन और उत्‍पादकता में वृद्धि हेतु मूल, नीतिगत और अनुप्रयुक्‍त अनुसंधान का संचालन तथा प्रसंस्‍करण प्रौद्योगिकी का मानकीकरण ।
  • कृषि-विविधता के संग्रहालय के रूप में सेवा प्रदान करना तथा मखाना पर वैज्ञानिक जानकारी उपलब्‍ध कराना।
  • मखाना की उन्‍नत प्रौद्योगिकी का प्रसार।
  • अपने अधिदेश की प्राप्ति हेतु प्रासंगिक राष्‍ट्रीय तथा अंतरराष्‍ट्रीय एजेंसियों के साथ मिलकर कार्य करना।

हमारे वैज्ञानिक

क्रम सवैज्ञानिक का नामपदप्रोफाईल विवरणी
1.डॉ. इंदु शेखर (मृदा विज्ञान), प्रभारी केंद्र प्रमुख, प्रधान वैज्ञानिक
2.डॉ. बी.आर. जेना (बागवानी), वैज्ञानिक
3.डॉ. मनोज कुमार (मृदा विज्ञान), वैज्ञानिक
4.शैलेन्द्र मोहन राउत (एफआरएम), वैज्ञानिक
5.पडाला विनोद कुमार (सस्य विज्ञान), वैज्ञानिक